Hi दोस्तों, यहाँ आपको हिंदी में Gulab Song की Lyrics मिलेगी। तो अब हम आपके लिए Lyrics निचे प्रोवाइड करवा रहे है।
गुलाब Gulab Lyrics in Hindi | Harinder Samra
Gulab Lyrics in Hindi को Harinder Samra ने गाया है। इस Punjabi Song में संगीत Akash Narwal द्वारा दिया गया है। यह Gulab Song Lyrics के बोल Harinder Samra ने लिखे हैं।

Song Credits:-

गीत: Gulab
गायक: Harinder Samra
संगीत: Akash Narwal
बोल: Harinder Samra
लेबल: Geet MP3

Gulab Lyrics in Hindi

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया
साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया
लाखां डा होक ओह
लखां डा होक लग तखन दे ओह मुँह गये
साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

देखने नु सोहना सी ओह दिल डा बिमार सी
लगदी दी सोने दी जो ताम्बे दी ओह तार सी
उत्ला दिखावा सी जा
उटला दिखावा सी जो भेद ओ हड़ा खुल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

मेरा सी ओह हानि गुहङी
इशक़ कहानी सी
मेरे ख्वाबन वाले बाघ दा
मैन सी राजा ते ओह रानी सी

सारी नगरी दे उत्ते हये
नागरी दे ट
चौड़ा चाखना डा चुल्ल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

सनेया ऐ मेरे बाजों ओह वि मुर्झा गया
मैनयां हाववं वाला रोग ओहनू खा गया
खुश्बु मिटाऊं वल
कहुर्शबू मिटाऊं वाला वैर उत्ते दुल्ल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

साड़ा गुलाब तान खौरे किथे रूल गया

More Songs [Harinder Samra]:
Previous Post Next Post